ACTION MODE 🛑 दुर्ग एसपी ने एक ASI को किया सस्पेंड 🛑 एक अन्य ASI और महिला प्रधान आरक्षक लाईन अटैच


भिलाई नगर, 11 मई। हाई कोर्ट के आदेश को बिना एसपी के संज्ञान में लाए सीधे थाना प्रभारी को अग्रेषित करने की चूक करने वाले एएसआई को आज दुर्ग एसपी जितेन्द्र शुक्ला ने तत्काल निलंबित किया है। इसके आलावा कार्य में लापरवाही और दुर्व्यवहार की शिकायत पर एक अन्य एएसआई और महिला प्रधान आरक्षक को लाईन अटैच किया गया है।मिली जानकारी के अनुसार जिस सहायक उपनिरीक्षक (अ) को निलंबित किया गया है उनका नाम संजय कुमार साहू है, जो कि पुलिस अधीक्षक कार्यालय में ही पदस्थ हैं। एएसआई साहू ने उच्च न्यायालय बिलासपुर में अपीलार्थी रजीत कंडरा उर्फ सोमनाथ के द्वारा दायर याचिका सीजीआरए 64/2024 के प्रकरण में उच्च न्यायालय के द्वारा 26 अप्रैल 2024 को दिए गए निर्देश को पुलिस अधीक्षक के संज्ञान में बिना लाए एवं पत्र का भलीभांति अवलोकन अध्य्यन किए बिना सीधे थाना प्रभारी‌ को कार्यवाही हेतु प्रेषित किया गया। जबकि एसपी द्वारा पूर्व में भी इस संबंध में स्पष्ट रूप से दिशा निर्देश दिए गए थे कि उच्च न्यायालय / उच्चतम न्यायालय की ओर से प्राप्त आदेश/निर्देश का भलीभांति अवलोकन/अध्ययन उपरांत ही समुचित कार्यवाही की जाए। इसके बावजूद भी दिए गए निर्देशों का पालन नहीं किया जाने पर सहायक उपनिरीक्षक (अ) संजय कुमार साहू पुलिस अधीक्षक कार्यालय दुर्ग को निलंवित किया गया है। इसी तरह सहायक उपनिरीक्षक सुभाष चन्द्र बोरकर ने थाना पुरानी भिलाई में 10 मई को दिवस अधिकारी के ड्यूटी दौरान आवेदक आकाश सिंह पिता वासुदेव सिंह निवासी बजरंग पारा वसुंधरा नगर भिलाई-3 के द्वारा थाना पुरानी भिलाई में मोपेड वाहन चोरी की रिपोर्ट लिखाने हेतु उपस्थित होने पर सहायक उपनिरीक्षक के द्वारा तत्काल उचित वैधानिक कार्यवाही न करते हुए आवेदक के साथ दुर्व्यवहार किया। इस शिकायत पर एसपी ने तत्काल एएसआई को लाईन अटैच किया है। एक अन्य मामले में महिला थाना में पदस्थ प्रधान आरक्षक नूतन साहू के द्वारा महिला थाना के अपराध क्रमांक-27/2024 धारा 498 ए, 34 भादवि की विवेचना की जा रही है। कल इस प्रकरण की कैश डायरी न्यायालय द्वारा मांग किए जाने पर महिला प्रधान आरक्षक के द्वारा केश डायरी न्यायालय में पेश नहीं किया गया तथा न्यायालय परिसर दुर्ग में आरोपी के अधिवक्ता के साथ दुर्व्यवहार कर महिला थाना में थाना प्रभारी एवं अन्य सहकर्मी के द्वारा याद-विवाद कर अभद्र व्यवहार किए जाने के कृत्य पर उसे भी लाईन अटैच किया गया है।